Sunday, 28 May 2017 14:02

नगीना गौशाला मामले की जांच डीएम को

Written by
Rate this item
(0 votes)

krishna gopal mahavidyalaya nagina

नगीना की श्रीकृष्ण गौशाला की 20 हजार वर्ग गज जमीन पर अवैध कब्जे का मामला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंच गया है। मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अजय कुमार सिंह ने इस संबंध में डीएम बिजनौर को जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। अलीगढ़ की बरौली सीट से भाजपा विधायक दलवीर सिंह ने यह मामला मुख्यमंत्री के सामने उठाया था।

 

गऊ रक्षा क्रांति मंच की राष्ट्रीय अध्यक्ष रेणुका शर्मा और गौशाला अध्यक्ष अलका लाहोटी ने गौशाला के संबंध में कई विधायकों को ज्ञापन दिया था। ज्ञापन में कहा गया था कि श्रीकृष्ण गौशाला गांव रशीदपुर सतीदास में स्थित है। यहां 200 गौवंश हैं व भारतीय नस्लों के संवर्धन का कार्य चल रहा है। खसरा नंबर 135 में स्थित गौशाला की जमीन में संतोष कुमार अग्रवाल व कृष्ण कुमार अग्रवाल ने अवैध तरीके से कब्जा करके गलत तरीके से कृष्ण गोपाल महाविद्यालय की मान्यता रुहेलखंड विश्वविद्यालय बरेली से प्राप्त कर ली है। उनका आरोप है कि दोनों के राजनीतिक संबंधों व धन के कारण इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

उनका कहना है कि संतोष कुमार अग्रवाल ने खसरा नंबर 135 में श्रीकृष्ण गौशाला का नाम निरस्त कर कृष्ण गोपाल महाविद्यालय का नाम राजस्व अभिलेखों में दर्ज करने के लिए एसडीएम नगीना के यहां वाद प्रस्तुत किया था। एसडीएम ने वाद को सही मानते हुए कब्जे को वैध ठहरा दिया है। उनका कहना है कि कृष्ण गोपाल महाविद्यालय का खसरा नंबर 135 की भूमि में कोई स्वामित्व नहीं है, लेकिन उक्त व्यक्ति लगातार महाविद्यालय की आड़ में सरकार को राजस्व की हानि पहुंचा रहे हैं। आरोप है कि ये गौशाला की चल-अचल संपत्ति को ख्रुर्द-बुर्द कर देना चाहते हैं। पूर्व मंत्री दलवीर सिंह ने गौशाला की जमीन पर कब्जे का मामला मुख्यमंत्री के सामने रखा था। अलका लाहोटी के अनुसार, इस मामले में मुख्यमंत्री ने शीघ्र कार्रवाई कराने के निर्देश दिए हैं। इस संबंध में मुख्यमंत्री के विशेष सचिव अजय कुमार सिंह ने निर्देश जारी किए हैं।

Additional Info

Read 1545 times Last modified on Sunday, 28 May 2017 14:05

1 comment

  • Comment Link Gaurav Gaur Wednesday, 31 May 2017 14:47 posted by Gaurav Gaur

    200 गौवंश??

    शायद इस तथ्य की भी जांच होनी चाहिए।

    मै यहाँ नौकरी की विवशता के चलते अपनी
    गाय को चारे के खर्च सहित छोडने आया तो मुझे स्पष्ट शब्दों में मना कर दिया गया।

    Report

Leave a comment