Sunday, 30 June 2019 16:12

कोतवाली देहात - लोगों का जमकर हंगामा

Written by
Rate this item
(1 Vote)

kotwali dehat death

कोतवाली देहात में वाहन चेकिंग के दौरान बिजेंद्र की पुलिस की पिटाई से मौत का आक्रोश शनिवार को भी नहीं थमा। आक्रोशित लोगों ने पोस्टमार्टम हाउस पर जमकर हंगामा किया और पुलिस को खूब खरीखोटी सुनाई।

मृतक का पोस्टमार्टम भी नहीं होने दिया। इस दौरान पहुंचे बसपा नेताओं से भी ये लोग भिड़ गए। हंगामे के दौरान मृतक की पत्नी बेहोश हो गई। उसे तुरंत जिला अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। अफसरों ने मृतक का पोस्टमार्टम कराने के लिए कई बार लोगों को राजी करने की कोशिश की पर वे नहीं माने। दरोगा व होमगार्ड समेत चार पुलिसवालों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज होने व बाकी मांगों को पूरा करने का आश्वासन देने के बाद शव का पोस्टमार्टम हो पाया। इस दौरान जिला अस्पताल छावनी में तब्दील रहा।

कोतवाली देहात में शुक्रवार को वाहन चेकिंग के दौरान गांव लालपुर निवासी बिजेंद्र सिंह की पुलिस की पिटाई से मौत हो गई थी। परिजनों का आरोप था कि पुलिसकर्मियों ने बिजेंद्र को पहले डंडा मारा और बाद में सीने में घूसा जड़ा, इसके बाद डंडों से पीटा, जिससे उसकी मौत हो गई। इसके बाद परिजनों ने थाने में तोड़फोड़ की। पुलिस ने लाठियां फटकार कर उन्हें खदेड़ दिया। जिला अस्पताल में भी शव उठाने को लेकर खूब हंगामा व छीनाझपटी रही। पुलिस ने किसी तरह शव को मोर्चरी में रख लिया। रात भर परिजन मोर्चरी के आसपास बैठे रहे। सुबह होते ही उन्होंने फिर हंगामा शुरू कर दिया व बिजेंद्र का पोस्टमार्टम नहीं होने दिया। गुस्साए लोगों का कहना था कि पहले पुलिसकर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हो। परिजनों को मुआवजा देने के साथ बाकी मांगें पूरी हों, तभी वे शव का पोस्टमार्टम होने देंगे। परिजन रुक-रुक कर हंगामा करते रहे।

अफसरों ने कई बार उन्हें समझाया पर वे नहीं माने। परिजन 50 लाख का मुआवजा दिलाने की मांग करते रहे। बसपा जिलाध्यक्ष राजेंद्र सिंह, सरजीत सिंह, वीपी सिंह, दीपक कुमार, जितेंद्र सागर, धनीराम सिंह पोस्टमार्टम हाउस पर पहुंचे तो उत्तेजित भीड़ उनसे भी भिड़ गई। लोग कहने लगे कि बिरादरी का वोट लेने के लिए तो वे आ जाते हैं पर मदद के लिए नहीं आते। वे अब घर से निकलकर आए हैं। हंगामा करने वालों ने पुलिस अफसरों के साथ बसपा नेताओं को भी खूब खरी खोटी सुनाई। इसके बाद बसपा नेता चले गए तो एसडीएम बृजेश कुमार व सीओ सिटी ने लोगों को मनाने की कोशिश की पर वे नहीं माने। इस दौरान बिजेंद्र की पत्नी बीना बेहोश हो गई तो फिर हंगामा हो गया। गुस्साए लोग बीना को जिला अस्पताल लेकर दौड़े और वहां भर्ती कराया। बसपा नेता मामूली बात पर हुई मारपीट में व्यक्ति की मौत के मामले को लेकर डीएम सुजीत कुमार के पास गए और इस मामले में समझौते की पटकथा शुरू की। समझौते के तहत मृतक के परिजनों को मनरेगा के सवा दो लाख रुपये दिलाने, एक पुत्र को चीनी मिल में नौकरी दिलाने, आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने का आश्वासन मिलने के बाद गुस्साए लोग बिजेंद्र का पोस्टमार्टम कराने के लिए राजी हुए।

कोतवालीदेहात थाने में दरोगा नीरज कुमार, सिपाही हेमेंद्र, हरपाल शर्मा व होमगार्ड देवेंद्र कुमार के खिलाफ मृतक के भाई सुरेंद्र कुमार ने हत्या की रिपोर्ट दर्ज करा दी। इसके बाद पोस्टमार्टम कराने को परिजन तैयार हुए। इस दौरान जिला अस्पताल छावनी में तब्दील रहा। कई थानों की पुलिस वहां लगी थी। एसपी संजीव त्यागी के मुताबिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मौत का कारण स्पष्ट हो जाएगा। इस मामले में प्रारंभिक जांच शुरू करा दी गई है। जांच सीओ नगीना को दी गई है।

हार्टअटैक से हुई थी बिजेंद्र की मौत

कोतवाली देहात थाना क्षेत्र के गांव लालपुर निवासी बिजेंद्र की मौत हार्टअटैक से हुई थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसकी पुष्टि हुई है। किसी भी संशय की स्थिति से निपटने के लिए जिला प्रशासन की ओर से पोस्टमार्टम के लिए पांच चिकित्सकों का एक पैनल बनाया गया था। सभी चिकित्सकों ने मौत का कारण हार्टअटैक बताया है। पोस्टमार्टम हाउस के सूत्रों की मानें तो इस मामले में दिल्ली के चिकित्सकों से भी सलाह ली गई है।

चेकिंग करने वाले दरोगा और दो पुलिसकर्मी लाइन हाजिर

कोतवाली देहात में वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस की पिटाई से एक व्यक्ति की मौत के मामले में चेकिंग करने वाले दरोगा समेत तीन पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है। होमगार्ड को भी हटा दिया गया है। इस मामले में शनिवार को भाजपा के तमाम नेता डीएम व एसपी से मिले थे। इसके बाद यह कार्रवाई हुई है। इस मामले में जांच भी शुरू करा दी गई है। भाजपा विधायक ओमकुमार, पूर्व सांसद भारतेंद्र सिंह, जिलाध्यक्ष राजीव सिसौदिया, जिला पंचायत अध्यक्ष साकेंद्र चौधरी बिजेंद्र सिंह के मामले को लेकर शनिवार को डीएम सुजीत कुमार व एसपी संजीव त्यागी से मिले। इस मामले में दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। दोनों अफसरों ने भाजपा नेताओं को बताया कि दरोगा नीरज कुमार, सिपाही हेमेंद्र व हरपाल शर्मा तथा होमगार्ड देवेंद्र कुमार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी गई है। दरोगा समेत तीनों पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है। इस मामले में जांच शुरू करा दी गई है।

Additional Info

Read 667 times Last modified on Sunday, 30 June 2019 16:28

Leave a comment