Nagina.Net

Nagina.Net

rape case at bijnor

बिजनौर में चंडीगढ़-लखनऊ एक्सप्रेस में मंगलवार को तबियत खराब होने पर जीआरपी के एक सिपाही ने तलाकशुदा महिला को दिव्यांग कोच में ले जाकर चलती ट्रेन में उसके साथ दुष्कर्म किया। बिजनौर रेलवे स्टेशन पर सिपाही को लोगों ने घेर लिया। सिपाही ने जीआरपी पुलिस चौकी में घुसकर जान बचाई। महिला की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है और आरोपी सिपाही को सस्पेंड कर दिया गया है।

anjali nagina topper

बिजनौर में जिले की बेटियों ने सीबीएसई के 12वीं के रिजल्ट में झंडे गाड़े हैं। आरपीएस पब्लिक स्कूल चंदक की काजल रानी व नगीना की एलआरएस एकेडमी की अंजलि चौहान ने जिला टॉप किया है। दोनों ने 97.8 प्रतिशत अंक पाए।

krishna gopal mahavidyalaya nagina

नगीना की श्रीकृष्ण गौशाला की 20 हजार वर्ग गज जमीन पर अवैध कब्जे का मामला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंच गया है। मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अजय कुमार सिंह ने इस संबंध में डीएम बिजनौर को जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। अलीगढ़ की बरौली सीट से भाजपा विधायक दलवीर सिंह ने यह मामला मुख्यमंत्री के सामने उठाया था।

nagar palika nagina

नगीना: शुक्रवार की दोपहर नगर पालिका बोर्ड की बैठक में पालिका क्षेत्र में सफाई व्यवस्था, विद्युत व्यवस्था, पालिका रख रखाव, वेतन भत्ते व पेंशन तथा पार्क के रख रखाव निर्माण कार्य, जल व्यवस्था, के लिये 45 करोड़ 81 लाख 76 हजार रुपये का वार्षिक बजट सर्वसम्मति से पारित हो गया।

masjid tower

नगीना में गांव मिरजालीपुरभारा में एक समुदाय के लोगों ने रातों-रात धर्मस्थल की करीब 30 फिट मीनार का निर्माण कर दिया। प्रधान सुरजन सिंह ने मंगलवार रात में ही पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस ने दोनों समुदायों के लोगों से बात की। बाद में निर्माण कराने वाला पक्ष इसे गिराने पर राजी हो गया।गांव में पुलिस बल तैनात किया गया है।

bijnor bridge

बिजनौर में गंगा पर नारनौर गांव से बनने वाले पुल सहित तीन पुलों के निर्माण को वन विभाग ने मंजूरी दे दी है। 2008 से नारनौर के पास पुल का निर्माण शुरू हो गया था, लेकिन वन विभाग की एनओसी न मिलने पर पुल का निर्माण बीच में ही रोक दिया गया था। करोड़ों रुपये लगने के बाद पुल निर्माण अधर में छोड़ दिया गया था। इस पुल के बनने से उत्तराखंड, बिजनौर से मेरठ, दिल्ली व हरियाणा की दूरी काफी कम हो जाएगी।

school kids

नगीना: शिक्षा के उन्नयन को संचालित सरकार की सारी योजनाएं मोहल्ला सरायमीर स्थित प्राइमरी पाठशाला तक आते-आते फेल हुई लगती हैं। स्कूल की न तो अपनी इमारत है न ही बैठने के लिए टाट-पट्टी। तपती दुपहरी हो या कड़ाके की ठंड, पाठशाला खुले आसमान के नीचे चलती है। बारिश में तो बच्चों की छुंट्टी हो जाती है। यहां का कुर्सी-मेज पड़ोसियों के यहां रखा जाता है।

water crisis

बढ़ापुर: प्रचंड गर्मी में गांव गोपीवाला प्यासा है। भू-जल स्तर इतना नीचे जा चुका है कि गांव में लगे करीब एक दर्जन इंडिया मार्का हैंडपंप पानी देना बंद कर चुके हैं। ग्रामीणों को लगभग एक किलोमीटर दूर खेतों पर लगे नलकूपों से पीने और घरों के इस्तेमाल के लिए पानी लाना पड़ता है। पिछले कई वर्षो से यही हालात हैं। यूं लगता है कि प्यासे ग्रामीणों के होठों पर रेगिस्तान रेंग रहा है लेकिन, समस्या जस की तस है।

dog eye

नगीना तहसील क्षेत्र के गांव चमरावाला में कुत्ते काटने के 11 साल बाद हुई एक व्यक्ति की मौत से परिवार के 19 सदस्य खौफजदा हैं। इन सभी ने नगीना सीएचसी पर एआरबी के इंजेक्शन लगवाए।

गांव चमरावाला निवासी रामलाल ने बताया कि उसके 47 वर्षीय बेटे हेमराज को लगभग 11 वर्ष पूर्व मजदूरी करने के दौरान एक कुत्ते ने काट लिया था। उस समय उसका इलाज प्राइवेट कराया था। हेमराज के दो बेटे व एक बेटी हैं। 27 अप्रैल को अचानक हेमराज की तबियत खराब हो गई।

उसे गांव काजीवाला में एक निजी चिकित्सक के पास ले जाया गया, लेकिन हालत में सुधार नहीं हुआ। बिजनौर में एक निजी चिकित्सक के पास ले जाने पर भी हालत में फर्क नहीं पड़ा। बिजनौर में चिकित्सकों ने उन्हें रेबीज बताया तो हेमराज को मेरठ ले जाया गया।

वहां इलाज का खर्च अधिक बताया गया। पैसे का इंतजाम करने के लिए वे गांव वापस आ गए। यहां दो दिन बाद हेमराज की मौत हो गई। शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया है।

triple talaaq chandpur bijnor

चांदपुर में मोदी सरकार पर तीन तलाक को लेकर शरीयत में दखलंदाजी का आरोप लगाते हुए मुस्लिम महिलाएं शनिवार को सड़कों पर उतर आईं। तहसील में प्रदर्शन कर उन्होंने राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को सौंपा।
मुस्लिम महिलाएं पूर्व बसपा विधायक मोहम्मद इकबाल के कराल रोड स्थित आवास पर एकत्र हुईं। इसके बाद शेख इस्लाह तंजीम के बैनर तले वे बिजनौर बाईपास रोड पर प्रदर्शन करते हुए तहसील पहुंचीं। इनका नेतृत्व मोहम्मद इकबाल ने किया। महिलाएं हाथों में स्लोगन लिखे बैनर लिए थीं।
ज्ञापन में कहा गया है कि तीन तलाक को लेकर मुस्लिम समाज का उसमें एक ही पहलू दर्शाया जा रहा है। इससे मुस्लिम महिलाएं को मौलिक अधिकारों के हनन की आशंका है। उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय में पक्ष रखने वाली मुस्लिम महिलाओं को भ्रमित करार दिया है। प्रदर्शन करने वाली महिलाओं में फौजिया, समर जहां, इमराना परवीन, जैनब परवीन, शाजिया, सलमा, नाजिया, कैसर जहां, समरीन बानो, इरम जहां, नसरीन, तबस्सुम, शहाना, अलीशा, शमा, शाइस्ता आदि शामिल रहीं। महिलाओं के प्रदर्शन के दौरान सड़कों पर जाम के हालात बने रहे।

Page 33 of 48