लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही बसपा भीम आर्मी को तोड़ने में जुट गई है। भीम आर्मी में शामिल हुए नेताओं को बसपा ने पार्टी में वापस लेना शुरू कर दिया है। नूरपुर क्षेत्र के कद्दावर नेता गौहर इकबाल को बसपा में वापस ले लिया गया। कई ओर नेताओं पर बसपा पार्टी में वापस लेने के लिए डोरे डाल रही है। बसपा नहीं चाहती की भीम आर्मी मजबूत होकर बसपा का विकल्प बने।

Published in News