Displaying items by tag: road

नगीना। रोडवेज बस व बाइक की भिड़ंत में बाइक सवार एक युवक की मौत हो गई। दूसरा गंभीर रूप से घायल हो गया, जिसे प्राथमिक उपचार के बाद बिजनौर रेफर कर दिया गया।

Published in News

नजीबाबाद। बुंदकी मार्ग पर पुलिया निर्माण के चलते राहगीरों को जाम से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

Published in News

roads in bijnor

जिले में ग्रामीण संपर्क मार्ग ही नहीं बल्कि कई अन्य जिला संपर्क मार्ग भी बदहाल है। सड़कों की हालत बदतर है, जिनसे निकलना काफी मुश्किलों भरा होता है।

Published in News

fastag

अगर आप राष्ट्रीय राजमार्गों पर सफ़र करते हैं और आपको टोल नाके से गुज़रना होता है तो 1 दिसंबर 2019 से आपके पास 'फ़ास्टैग' होना ज़रूरी है.

Published in News

broken roads bijnor

बढ़ापुर कस्बे व क्षेत्र को जिला मुख्यालय से जोड़ने वाले बढ़ापुर-नगीना मार्ग के बेहद क्षतिग्रस्त होने पर वाहनों का इस मार्ग पर चलना जोखिम भरा हो गया है। क्षेत्रवासियों ने लोनिवि व प्रशासन से इस जर्जर मार्ग के पुनर्निर्माण की मांग की है।

Published in News

car accident nagina

नगीना में विवाह समारोह से लौट रहे एक ही परिवार के लोगों की कार रविवार की देररात अनियंत्रित होकर पेड़ से टकराकर पलट गई।

Published in News

fourlane road nagina

बिजनौर के नगीना में फोरलेन निर्माण कर रही पीएनसी कंपनी के अधिकारियों व पुलिस प्रशासन ने ग्राम पुरैनी में एक दर्जन से ज्यादा मकानों को जेसीबी से ध्वस्त कर दिया। आरोप है कि विरोध करने वाले लोगों व महिलाओं के साथ पुलिस ने अभद्रता की तथा उनके कपड़े भी फाड़ दिए।

Published in News

broken road dhampur

धामपुर : शहर से गुजर रहे मुख्य मार्ग खस्ताहाल हो चुके हैं। यह मुख्य मार्ग बिजनौर, नहटौर, नगीना, शेरकोट व कालागढ़ को धामपुर से जोड़ते हैं। इन मार्गों पर कदम-कदम पर हादसों का अंदेशा बना रहता है। यहां रास्तों पर गड्ढों का आलम यह है कि

Published in News

road1

नगीना की गलियों में आपको इस तरह के नज़ारे आसानी से देखने को मिल जाएँगे, जहाँ नगर पालिका के सफाई कर्मचारी नालिया साफ करके गंदगी को किनारे पर छोड़ देते हैं और गंदगी बाद में नगर पालिका की गाड़ी द्वारा उठा ली जाती है.

Published in Blogs

broken roads bijnor

डेढ़ साल बाद भी सड़कों के जख्म नहीं भरे गए हैं। जिले की कई सड़कों की हालत बद से बदतर है। सड़कों में गहरे गहरे गड्ढ़े व्यवस्था की पोल खोल रहे हैं। अफसर और नेता इन पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। स्थिति यह है कि सड़क हादसों में 75 दिनों में ही 82 से ज्यादा जान जा चुकी हैं। इसके बावजूद भी सड़कों के गड्ढों की अनदेखी की जा रही है।

Published in News
Page 1 of 2