Thursday, 15 December 2016 07:27

बिजनौर - कैश के लिए धारदार हथियार चले, मारपीट

Written by
Rate this item
(0 votes)

bijnor demonetization

बिजनौर क्षेत्र के हल्दौर में बुधवार को भी बैंकों और एटीएम से कैश लेने के लिए ग्राहकों की भीड़ उमड़ पड़ी। शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 35 दिन बाद भी जरूरत के मुताबिक कैश नहीं मिलने से ग्राहकों का आक्रोश दिन प्रतिदिन केंद्र सरकार और बैंक प्रबंधन के खिलाफ बढ़ता ही जा रहा है।

इसी कड़ी में हल्दौर क्षेत्र के खासपुरा की एसबीआई शाखा के बाहर कैश लेने के लिए लगी लाइन में दो पक्षों के बीच विवाद हो गया इस दौरान ग्राहकों के बीच जमकर लात-घूंसे और धारदार हथियार चले। संघर्ष में दो युवक घायल हो गए । दोनों पक्षों ने पुलिस को मामले की तहरीर दी है। 

बुधवार को क्षेत्र के गांव खासपुरा में सुबह से कैश लेने के लिए बैंकों पर भीड़ लगी थी। एसबीआई शाखा व सर्वयूपी ग्रामीण बैंक कुछ दूरी पर हैं। बुधवार की सुबह करीब नौ बजे गांव का ही अंकुश सर्व यूपी ग्रामीण बैंक में कैश लेने के लिए लाइन में खड़ा था। वहीं, अंकुश का भाई अंकुर एसबीआई शाखा के बाहर कैश लेने के लिए लाइन में खड़ा था। अंकुर के अनुसार उसका भाई अंकुल के आगे कैश लेने के लिए गांव का ही सरदार महिपाल सिंह अपने परिचितों को कैश लेने के लिये जबरन खड़ा कर रहा था । इस बात को लेकर दोनों में विवाद हो गया । इस दौरान दोनों पक्षों के बीच जमकर मारपीट शुरू हो गई। शोरशराबा सुनकर अंकुश भी पहुंच गया। आरोप है कि मारपीट के दौरान अंकुश जब भागने लगा ,तो कुछ युवकों ने पीछा करके उसके हाथ व कूल्हे पर तलवार मारकर घायल कर दिया। इससे वह बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़ा।
उधर, सरदार महिपाल ने कहा कि अंकुल अपने परिचितों को कैश की लाइन में खड़ा कर रहा था। विरोध करने पर उसके साथ मारपीट की गई। दोनों पक्षों ने थाने में जाकर मामले की तहरीर दी है। घायलों को उपचार के लिए सीएचसी में भर्ती कराया गया है। उधर, थाना प्रभारी निरीक्षक अख्तियार अहमद अंसारी का कहना है कि प्रथम पक्ष सरदार महिपाल सिंह व जसवेंद्र सिंह व द्वितीय पक्ष अंकुल व पूर्व प्रधान वीर सिंह के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। पूरे मामले की छानबीन के बाद आरोपियों पर कार्रवाई होगी।

Additional Info

Read 202 times Last modified on Thursday, 15 December 2016 07:42

Leave a comment